The light of inner burning

इज़हार-ए-ज़त क्यूँ ज़बाँ का दर्द आखिर सह रहा है
काहे काफ़िर आशिकों को बेपरस्तिश कह रहा है

कोई वीराने में साहब याद करतें हैं उसे
चश्म-ए-तर से जो लहू का आज दरिया बह रहा है

बाँध ले बाहों में कसके ओढ़ ले ‘सुन्दर’ उसे
जाने कबसे घर में तेरे वो अकेला रह रहा है

Advertisements

~ by Bombadil on September 30, 2009.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: