Statement of Purpose

•March 13, 2012 • Leave a Comment

लोहे के पेड़ हरे होंगे, तू गान प्रेम का गाता चल,
नम होगी यह मिट्टी ज़रूर, आँसू के कण बरसाता चल।

सिसकियों और चीत्कारों से, जितना भी हो आकाश भरा,
कंकालों का हो ढेर, खप्परों से चाहे हो पटी धरा ।
आशा के स्वर का भार, पवन को लेकिन, लेना ही होगा,
जीवित सपनों के लिए मार्ग मुर्दों को देना ही होगा।
रंगो के सातों घट उँड़ेल, यह अँधियारी रँग जायेगी,
ऊषा को सत्य बनाने को जावक नभ पर छितराता चल।

आदर्शों से आदर्श भिड़े, प्रग्या प्रग्या पर टूट रही।
प्रतिमा प्रतिमा से लड़ती है, धरती की किस्मत फूट रही।
आवर्तों का है विषम जाल, निरुपाय बुद्धि चकराती है,
विज्ञान-यान पर चढी हुई सभ्यता डूबने जाती है।
जब-जब मस्तिष्क जयी होता, संसार ज्ञान से चलता है,
शीतलता की है राह हृदय, तू यह संवाद सुनाता चल।

सूरज है जग का बुझा-बुझा, चन्द्रमा मलिन-सा लगता है,
सब की कोशिश बेकार हुई, आलोक न इनका जगता है,
इन मलिन ग्रहों के प्राणों में कोई नवीन आभा भर दे,
जादूगर! अपने दर्पण पर घिसकर इनको ताजा कर दे।
दीपक के जलते प्राण, दिवाली तभी सुहावन होती है,
रोशनी जगत् को देने को अपनी अस्थियाँ जलाता चल।

क्या उन्हें देख विस्मित होना, जो हैं अलमस्त बहारों में,
फूलों को जो हैं गूँथ रहे सोने-चाँदी के तारों में ?
मानवता का तू विप्र, गन्ध-छाया का आदि पुजारी है,
वेदना-पुत्र! तू तो केवल जलने भर का अधिकारी है।
ले बड़ी खुशी से उठा, सरोवर में जो हँसता चाँद मिले,
दर्पण में रचकर फूल, मगर उस का भी मोल चुकाता चल।

काया की कितनी धूम-धाम! दो रोज चमक बुझ जाती है;
छाया पीती पीयुष, मृत्यु के ऊपर ध्वजा उड़ाती है ।
लेने दे जग को उसे, ताल पर जो कलहंस मचलता है,
तेरा मराल जल के दर्पण में नीचे-नीचे चलता है।
कनकाभ धूल झर जाएगी, वे रंग कभी उड़ जाएँगे,
सौरभ है केवल सार, उसे तू सब के लिए जगाता चल।

क्या अपनी उन से होड़, अमरता की जिनको पहचान नहीं,
छाया से परिचय नहीं, गन्ध के जग का जिन को ज्ञान नहीं?
जो चतुर चाँद का रस निचोड़ प्यालों में ढाला करते हैं,
भट्ठियाँ चढाकर फूलों से जो इत्र निकाला करते हैं।
ये भी जाएँगे कभी, मगर, आधी मनुष्यतावालों पर,
जैसे मुसकाता आया है, वैसे अब भी मुसकाता चल।

सभ्यता-अंग पर क्षत कराल, यह अर्थ-मानवों का बल है,
हम रोकर भरते उसे, हमारी आँखों में गंगाजल है।
शूली पर चढा मसीहा को वे फूले नहीं समाते हैं
हम शव को जीवित करने को छायापुर में ले जाते हैं।
भींगी चाँदनियों में जीता, जो कठिन धूप में मरता है,
उजियाली से पीड़ित नर के मन में गोधूलि बसाता चल।

यह देख नयी लीला उन की, फिर उन ने बड़ा कमाल किया,
गाँधी के लहू से सारे, भारत-सागर को लाल किया।
जो उठे राम, जो उठे कृष्ण, भारत की मिट्टी रोती है,
क्य हुआ कि प्यारे गाँधी की यह लाश न जिन्दा होती है?
तलवार मारती जिन्हें, बाँसुरी उन्हें नया जीवन देती,
जीवनी-शक्ति के अभिमानी! यह भी कमाल दिखलाता चल।

धरती के भाग हरे होंगे, भारती अमृत बरसाएगी,
दिन की कराल दाहकता पर चाँदनी सुशीतल छाएगी।
ज्वालामुखियों के कण्ठों में कलकण्ठी का आसन होगा,
जलदों से लदा गगन होगा, फूलों से भरा भुवन होगा।
बेजान, यन्त्र-विरचित गूँगी, मूर्त्तियाँ एक दिन बोलेंगी,
मुँह खोल-खोल सब के भीतर शिल्पी! तू जीभ बिठाता चल।

-रामधारी सिंह ‘दिनकर’

Advertisements

I sit besides the river and weep

•December 8, 2011 • Leave a Comment

It never felt improper to dream.
But tonight, my dream makes me cry.
I wait for the morning.

The distant stars and the lovely moon echo the grief of my heavy heart.
The dark night seems familiar. Come thief, steal my heart; it’s ripe.

I am too bored to breathe. My heart is sinking, and so am I.
My will flees me, and the night is darkening.
I wait for the morning.

Come again.

God save the English!

•November 19, 2011 • Leave a Comment

Memory conjures up something unspringlike–

a storm in a teacup, rain,
sunshine, sugar, aprilness,
cloudy climate and cricket.

I love the British. Especially the English. I love, too, the Scots and the bagpipers, the Celts and their songs, the Angles and the Stuarts and their feuds, and all of them all, with all their freemasonry and their divine and unchaste kingdom conquests, and their gloriously imperial stories and their passionately trivial games, their love for complicated laws and arbitrary rules and neat little traditions. I love their brave saints and their greedy dragons, their majestic quests and their holy grails, their kindness for beautiful flowers and their affection for faithful pets. The taste for tea and buns and biscuits in the sunny but soaked, brown and breezy morning when the ball swings like the lead-motive of a Mark Knopfler solo, and the bat beats its breast at its sweet spot…

…and, most of all, I love the English language, and all that which can be done with it.

Memorable Roorkee

•November 9, 2011 • 4 Comments


Memorable Roorkee



Remember, the beauty of the shade of a tree…


standing tall like a lone soldier at Roorkee,


when we all had dreams and desires and days —


full of leisure and love; yet, look at today:


no time to sleep, no time to dream,


Everybody wants to make me scream.


Flash back in my mind, oh the memory


of the beauty of the shade of the tree!


Kozhikode Nightingale

•October 30, 2011 • Leave a Comment

The navy blue dawn outside my chamber. Water slithers down wet leaves. The cicadas hum in trance. The nightingale’s voice rises without wavering to the side, it is as penetrating as a cock-crow, but beautiful and free of vanity. I was in prison and it visited me. I was sick and it visited me. I didn’t notice it then, but I do now. Time streams down from the sun and the moon and into all the tick-tock-thankful clocks. But right here there is no time. Only the nightingale’s succulent voice, the raw resonant notes that whet the waking sky’s gleaming hued scythe.

From Tomas Tranströmer of Sweden

Trade-Off

•July 19, 2011 • Leave a Comment

A universe profoundly indifferent to the tongue.

The world’s taste is indeed absurd:

an anonymous song of doubt and rebellion;
an instrumental composition of questions;
points, counterpoints and their repetitions.

On One hand:

The slow moaning winds, the gently kissing breeze;
a perfumed gust of air from your lovely wet hair;
wildness, wings, wine, cherries and cheese.

On Other hand:

The hot sweat of swollen storms, the sun gets tanned;
the crimson sky yields, it descends down fields;
ultraviolet promises arch, the entry is banned.

————————————————-

 

Reconciling with fate

•June 18, 2011 • Leave a Comment

ये ना थी हमारी किस्मत

ये ना थी हमारी किस्मत के विसाल-ऐ-यार होता
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता

I was never destined to be united with my beloved
Even if I would’ve had a greater life, I would still have continued to wait.

तेरे वादे पर जिये हम तो ये जान झूठ जाना
के ख़ुशी से मर न जाते अगर इंतज़ार होता

If my hope was kept up by your promise, it was only because I knew it to be a lie
If I really would’ve believed in it, I would rather have died.

ये कहाँ की दोस्ती है बनें हैं दोस्त नासिह
कोई चारासाज़ होता कोई ग़मगुज़ार होता

What sort of friendship is this, that friends must preach piety and sermonize?
I rather long for someone who lends his palms to my tears and lessens my suffering.

कहूं किस से मैं के क्या है शब-ऐ-ग़म बुरी बला है
मुझे क्या बुरा था मरना अगर एक बार होता

Who will hear from me of the night of sorrows and its evil?
I would have preferred death if it was meant to be only once…

हुये मर के हम जो रुसवा हुये क्यूँ न ग़र्क़-ऐ-दरिया
न कभी जनाज़ा उठता न कहीं मज़ार होता

Better to drown in an ocean than to be disgraced
Neither the pretence of a funeral, nor the burden of a tomb **

ये मसाल-ऐ-तसव्वुफ़ ये तेरा बयान ‘ग़ालिब’
तुझे हम वली समझते जो न बदख्वार होता

What marvellous visionary metaphors and how wonderful is your speech!
*Ghalib, you would’ve been God’s best friend, if you were not such an alcoholic.

Notes:

*I absolutely love Mirza Ghalib’s verse. He’s finds a way to bring out the humor in tragedy which is a mark of wisdom. Ghalib means a witness. It is the pseudonym of Mirza Asadulla Khan, a court poet of King Bahadur Shah ‘Zafar’.

**I have translated the fifth verse hyper-subjectively, as it is absurd to some extent. I have relied on my experience with Ghalib. If anyone has a better translation, please feel free to contribute.